कक्षा 10 विज्ञान पाठ 14 - ऊर्जा के स्रोत (Sources of Energy) way2pathshala


 कक्षा 10 विज्ञान पाठ 14 - ऊर्जा के स्रोत (Sources of Energy) way2pathshala


कक्षा (Class) :-10

विषय(Subject):- विज्ञान (Science)

पाठ Chapter):- 14 

पाठ नाम(Chapter name):-  ऊर्जा के स्रोत (Sources of Energy) 

way2pathshala


प्रश्न- 1 गर्म जल प्राप्त करने के लिए हम सौर जल तापक का उपयोग किस दिन नहीं कर सकते

  1. धुप वाले दिन
  2. बादलों वाले दिन
  3. गरम दिन
  4. पवनों (वायु) वाले दिन

उत्तर (2) बादलों वाले दिन |



 प्रश्न-2 निम्नलिखित में से कौन जैवमात्रा ऊर्जा स्रोत का उदाहरण नहीं है?

  1. लकड़ी
  2. गोबर गैस
  3. नाभिकीय ऊर्जा
  4. कोयला

उत्तर (3) नाभिकीय ऊर्जा |



 प्रश्न-3 जितने ऊर्जा स्रोत हम उपयोग में लाते हैं उनमें सेअधिकाश सौर ऊर्जा को निरूपित करते हैं। निम्नलिखित में से कौन-सा ऊर्जा स्रोत अंततः सौर ऊर्जा से व्युत्पन्न नहीं है?

  1. भूतापीय ऊर्जा
  2. पवन ऊर्जा
  3. नाभिकीय ऊर्जा
  4. जैवमात्रा


उत्तर (3) नाभिकीय ऊर्जा |


प्रश्न- 4 ऊर्जा स्रोत के रूप में जीवाश्मी ईधनों तथा सूर्य की तुलना कीजिए और उनमें अंतर लिखिए।


उत्तर

 जीवाश्मी ईधनों

 सूर्य 

 ये समेटने के योग्य है 

 यह समेटने योग्य नही है 

  ये ऊर्जा के महंगे स्रोत होते है 

 ये ऊर्जा के सस्ते स्रोत होते है 

  ये ग्रीन -हाउस को भी प्रभावित करते है 

 यह उपकरण स्वच्छ उर्जा के स्रोत है 


प्रश्न- 5 जैवमात्रा तथा ऊर्जा स्रोत के रूप में जल वैद्युत की तुलना कीजिए और उनमें अंतर लिखिए।

उत्तर-

 जैवमात्रा 

 जल विधुत

 जैव मात्रा नवीकरणीय एवं परंपरागत ऊर्जा के स्त्रोत होते हैं

 जल विद्युत भी नवीकरणीय एवं परंपरागत ऊर्जा स्त्रोत होते हैं

 जैव मात्रा के प्रयोग से वातावरण प्रदूषित होता है

 जल, विद्युत ऊर्जा का प्रदूषण मुक्त ऊर्जा स्त्रोत होता है

 जैव मात्रा का उपयोग से पारिस्थितिकीय असंतुलन उत्पन्न नहीं करता है

 जल विद्युत का उपयोग करने से बाँध बनाने पर पारिस्थितिकीय असंतुलन उत्पन्न होता है


प्रश्न- 6 निम्नलिखित से ऊर्जा निष्कर्षित करने की सीमाएँ लिखिए?

  1. पवनें
  2. तरंगें
  3. ज्वार-भाटा

उत्तर

 पवनें

 तरंगें

 ज्वार-भाटा

 पवनों से ऊर्जा उन्हीं जगहों पर पाई जाती है जहाँ वर्षा के समय तेज गति से पवने चलती रेहती हो 

 तरगों से उत्पन्न ऊर्जा को प्राप्त 

करने के लिए तरगों का प्रबल होना जरुरी है

 इस तरह की ऊर्जा प्राप्ति

के लिए बाध का निमार्ण करना जरूरी होता है 

 टरबाइनो कि गति के लिए पवनो की न्यूनतम चाल  15km/h से अधिक होनी चाहिए 

 इसका प्रयोग करते समय एक - समान  विधुत शक्ति प्राप्त नही की जा सकती है 

 ज्वार-भाटा से उत्पन्न ऊर्जा का

 उपयोग सीमित होता है 

 इसके उपयोग के लिए सचायक सेलों की भी सुविधा होनी चाहिए

 इसके किए आवश्यक उपकरण महंगे होते है

 इसके निमार्ण के लिए जमीन

 की लागत आधिक लगती है


 प्रश्न-7 ऊर्जा स्रोतों का वर्गीकरण निम्नलिखित वर्गों में किस आधार पर करेंगे?

  1. नवीकरणीय तथा अनवीकरणीय
  2. समाप्य तथा अक्षय

क्या (a) तथा (b)के विकल्प समान हैं?

उत्तर-

  1. नवीकरणीय ऊर्जा उस ऊर्जा को कहा जाता  हैं जिनका प्रयोग हम लंबे समय तक आसीमित रूप से कर सकते है | इसका भंडार अक्षय रहता है | जैसे : सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा अनवीकरणीय ऊर्जा वह ऊर्जा होती है जिनका उपयोग अगर हम एक बार कर लेते है तो उनकी पुनः प्राप्ति नहीं की जा सकती है और इनका भंडार समाप्य रहता है | जैसे : जीवाश्मी ईंधन (कोयला , पैट्रॉल , प्राकृतिक गैस)|
  2. (a) और (b) के विकल्प सामान है क्योंकि नवीकरणीय ऊर्जा अक्षय है परन्तु अनवीकरणीय ऊर्जा समाप्य है |


प्रश्न- 8 ऊर्जा के आदर्श स्रोत में क्या गुण होते हैं?

उत्तर- ऊर्जा के आदर्श स्रोत के गुण 

  1. आसानी से प्राप्त हो जाने वाले होने चाहिए |
  2. सस्ता भी होना चहिए |
  3. प्रति एकाक आयतन एव द्रव्यमान ज्यादा कार्य करने वाले हो |


प्रश्न- 9 सौर कुकर का उपयोग करने के क्या लाभ तथा हानियाँ हैं? क्या ऐसे भी क्षेत्र हैं जहाँ सौर कुकरों की सीमित उपयोगिता है?

उत्तर-

 सौर कुकर का उपयोग करने के लाभ 

 सौर कुकर की हानियाँ

 यह उपकरण सस्ता होता है 

 इस उपकरण को केवल सूर्य के प्रकाश में ही प्रयोग मे लाया जा सकता है

 इसके उपयोग करने से प्रदुषण बिल्कुल नही होता है 

 इसके  प्रयोग से भोजन पकाने में बहुत समय लगता है 

 इनमे  कोई गतिमान पुर्जा नही होता है 

 हां , ऐसे अनेक क्षेत्र है जहां सौर -सेल महगे होते है मगर सौर कुकरों की सीमित उपयोगिता होती है उदाहरण : अधिक बरसात वाले क्षेत्र , पहाड़ी क्षेत्र आदि 


 प्रश्न-10 ऊर्जा की बढ़ती माँग के पर्यावरणीय परिणाम क्या हैं? ऊर्जा की खपत को कम करने के उपाय लिखिए।

उत्तर- आज का युग मशीनी युग हो गया है जिससे आज की जनसंख्या जीवाश्म ईधन पर्यावरण को प्रदुषण करने के लिए उपयोग करती है | सौर-सेल को प्रयोग करने से पर्यावरणीय सभव है, और इससे बहुत प्रकार कि बीमारियाँ भी बढ़ रही है 

ऊर्जा की खपत को कम करने के उपाय कुछ इस प्रकार है

  1. कोयला , जीवाश्म ईधन का कम से कम उपयोग करना चाहिए 
  2. मशीनों पर निर्भर न रहकर स्वय पर निर्भर रहना  चाहिए  


               ऊर्जा के स्रोत EBOOK 👇


Post a Comment

0 Comments