कक्षा 10 विज्ञान,पाठ 15 हमारा पर्यावरण (Our Environment) PDF इन हिन्दी


कक्षा 10 विज्ञान,पाठ 15 हमारा पर्यावरण (Our Environment)  PDF इन हिन्दी




कक्षा (Class) :-10

विषय(Subject):- विज्ञान (Science)

पाठ Chapter):- 15

पाठ नाम(Chapter name):- हमारा पर्यावरण (Our Environment) 

www.way2pathshala.in



कक्षा 10 विज्ञान,पाठ 15 हमारा पर्यावरण (Our Environment)  PDF👇👇👇


NCERT Class 10th Science Chapter 15  Our Environment in Hind (कक्षा 10 विज्ञान पाठ 15 हमारा पर्यावरण इन हिन्दी) पोस्ट उन सभी छात्रों के लिये है जो कक्षा दस में पढ़ रहे है, के लिए www.way2pathshala.in तथा www.exam-std.com के संयुक्त प्रयास से एनसीईआरटी कक्षा 10 विज्ञान  पाठ 15 हमारा पर्यावरण इन हिन्दी (Our Environment in Hindi) हिन्दी में सलूशन दिया गया है| जो  छात्रों को NCERT Solutions For Class 10th Science Chapter 15 Our Environment में कोई दिक्कत न आए और परीक्षा में अछे अंक प्राप्त कर सके।

प्रश्न-1 निम्न में से कौन-से समूहों में केवल जैव निम्नीकरणीय पदार्थ हैं 

  1. घास, पुष्प तथा चमड़ा 
  2. घास, लकड़ी तथा प्लास्टिक 
  3. फलों के छिलके, वेफक एवं नींबू का रस 
  4. केक, लकड़ी एवं घास 

उत्तर-

(1) घास, पुष्प तथा चमड़ा 

(2) घास, लकड़ी तथा प्लास्टिक 

(4) केक, लकड़ी एवं घास 


प्रश्न-2 निम्न से कौन आहार शृंखला का निर्माण करते हैं

  1. घास, गेहूँ तथा आम 
  2. घास, बकरी तथा मानव 
  3. बकरी, गाय तथा हाथी 
  4. घास, मछली तथा बकरी 

उत्तर (2) घास, बकरी तथा मानव 

way2pathshala

और पोस्टों के लिये गूगल में सर्च करे 👇

www.way2pathshala.in


प्रश्न-3 निम्न में से कौन पर्यावरण-मित्र व्यवहार कहलाते हैं

  1. बाजार जाते समय सामान के  लिए कपड़े का थैला ले जाना 
  2. कार्य समाप्त हो जाने पर लाइट ( बल्ब ) तथा पंखे का स्विच बंद करना 
  3. माँ द्वारा स्कूटर से विद्यालय छोड़ने के  बजाय तुम्हारा विद्यालय तक पैदल जाना
  4. उपरोक्त सभी 

उत्तर-(4) उपरोक्त सभी

प्रश्न-4 क्या होगा यदि हम एक पोषी स्तर के  सभी जीवों को समाप्त कर दें ( मार डाले )?

उत्तर-प्रकृति की खाद्य श्रृंखलाएं एक-दूसरे से जुड़ी हैं| किसी भी कड़ी को यदि समाप्त किया जाए तो पर्यावरण का संतुलन बिगड़ जाएगा| यदि एक पोषी स्तर के जीवों को हम पूरी तरह खत्म कर दें तो उसके अगले स्तर के जीवों को खाना नहीं मिलेगा और वह भी मर जाएगा और ऊर्जा का प्रवाह भी समाप्त हो जाएगा |साथ ही उनके पहले के स्तर वाली जीवों की जनसंख्या बढ़ जाएगी और खाद्य श्रृंखला का संतुलन बिगड़ जाएगा| उदाहरण: यदि हम श्रृंखला से शेरों को हटा दें तो घास चरने वाले हिरण की संख्या बहुत बढ़ जाएगी| उनकी बड़ी हुई जनसंख्या घास और वनस्पति को खत्म कर देगी जिससे वह स्थान रेगिस्तान बन जाएगा


प्रश्न-5 क्या किसी पोषी स्तर के सभी सदस्यों को हटाने का प्रभाव भिन्न-भिन्न पोषी स्तरों के लिए अलग-अलग होगा? क्या किसी पोषी स्तर के जीवों को पारितंत्र को प्रभावित किए बिना हटाना संभव है?

उत्तर- हाँ, पोषी स्तर के सभी जीवों को हटाने का प्रभाव अलग-अलग पोषी स्तरों के लिए अलग-अलग होता है|यदि सभी उत्पादक मर जाएंगे तो यह परिस्थिति प्राथमिक उपभोक्ताओं की मौत तथा प्रवास का कारण बन जाएगी| उत्पादकों के ना होने से उपभोक्ताओं के बाद के स्तर पर भी प्रभाव पड़ेगा परंतु अगर प्राथमिक उपभोक्ताओं को हटा देते हैं तो उस पोषी स्तर के जीवों की मौत हो जाएगी जबकि नीचे के स्तर के उत्पादक पर्यावरण की वाहक क्षमता से अधिक बढ़ेंगे| एक पोषी  स्तर के जीवों को हटाने से पूरे पारितंत्र को प्रभावित किया जा सकता है इसलिए एक पोषी स्तर के जीवों का अस्तित्व अन्य पोषी स्तर के जीवों पर आधारित होता है|


प्रश्न-6 जैव आवर्धन क्या है? क्या पारितंत्र के विभिन्न स्तरों पर जैविक आवर्धन का प्रभाव भी भिन्न-भिन्न होगा?

उत्तर- विषैले और हानिकारक रसायनों का खाद्य श्रंखला में प्रवेश होकर और पोषीय स्तर के साथ बढ़ना जैविक आवर्धन कहलाता है।

जैविक आवर्धन का प्रभाव पारितंत्र के अलग-अलग स्तरों पर पड़ता है| धरती से विषैले पदार्थ जैसे कीटनाशक का पेड़-पौधों में प्रवेश होता है और शाकाहारी जीवों से फलों और सब्जियों को सेवन करने से उनके माध्यम से शाकाहारी जीवों में प्रवेश करते हैं| उसके बाद जब मांसाहारी जीवों के द्वारा शाकाहारी जीवों को खाया जाता है तब वही हानिकारक रसायन मांसाहारी जीवों में प्रवेश करते हैं| इस प्रकार से जैविक आवर्धन पोषी स्तर के साथ बढ़ता चला जाता है और हानिकारक पदार्थो का मात्रा पहले पोषिय स्तर से अलग पाया जाता है|


प्रश्न-7 हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से कौन-सी समस्याएँ उत्पन्न होती हैं?

उत्तर- हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से निम्नलिखित समस्याएँ उत्पन्न होती हैं

  1. अजैव निम्नीकरणीय कचरे से पर्यावरण प्रदूषित होते हैं| इसको विघटित नहीं किया जा सकता है|अतः इसे समाप्त करने में भी समस्या उत्पन्न होती है|
  2. यह जैविक आवर्धन को बढ़ाता है| जैविक आवर्धन से तात्पर्य हानिकारक रसायनों जैसे: डी.डी.टी का खाद्य श्रंखला में प्रवेश करना और पोषीय स्तर के साथ बढ़ते जाना है
  3. पारितंत्र को नुकसान होता है
  4. जो हानिकारक रसायन भूजल से बचता है वो भीतर जाकर मिट्टी की बांझपन और पीएच में गड़बड़ी का कारण बनता है

और पोस्टों के लिये गूगल में सर्च करे 👇

www.way2pathshala.in 

प्रश्न-8 यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारा कचरा जैव निम्नीकरणीय हो तो क्या इनका हमारे पर्यावरण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा?

उत्तर- जैव निम्नीकरणीय कचरे का निपटान आसान है और इसको अपघठित करके दोबारा प्रयोग में लाया जा सकता है| जैव निम्नीकरणीय पदार्थ जीवाणुओं, बैक्टीरिया द्वारा अपघटित किए जाते हैं और इस प्रकार पर्यावरण में संतुलन बनाए रखते हैं| अतः यदि जैव निम्नीकरणीय कचरे का ठीक से निम्नीकरणीय निपटान कर दिया जाए तो इनका हमारे पर्यावरण पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा| लेकीन, जैव नीमनिम्नीकरण की मात्रा अगर बढ़ जाय तो इसके गलत प्राभव कुछ इस प्रकार है -

  1. इनसे निकले कुछ विषैले गैस हमारे फेफड़ो को संक्रमित कर सकते है
  2. जहां जैव निम्नीकरण भारी मात्रा में एकत्रित होते है वह विषैले जीव उत्पन्न होते है जो कि हमारे लिए हानिकारक है

प्रश्न-9 ओजोन परत की क्षति हमारे लिए चिंता का विषय क्यों है। इस क्षति को सीमित करने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं?

उत्तर- ओजोन परत की क्षति हमारे लिए चिंता का विषय है क्योंकि वायुमंडल की ऊपरी सतह में ओजोन एक आवश्यक अंग है| यह परत सूर्य से पृथ्वी पर आने वाली पैराबैंगनी विकिरण से पृथ्वी की सुरक्षा करती है| यह विकिरण मनुष्य के लिए नुकसानदायक होती है| ओजोन परत की क्षति को घटाने के लिए 1987 में पर्यावरण कार्यक्रम में सर्व अनुमति बनी थी कि सी के उत्पादन को कम रखा जाए|



Post a Comment

0 Comments